By | February 27, 2020

दो बहनों का इकलौता भाई कश्मीर में हो गया शहीद करनैल सिंह

नयना देवी हिमाचल प्रदेश का एक और लाल ज बॉर्डर पर ड्यूटी के दौरान शहीद हो गया। करनैल सिंह पुत्र शेर सिंह विधानसभा क्षेत्र नयना देवी की रोड़जामन पंचायत के चंगर तरसूह गांव का रहने वाला था। . 22 साल के करनैल सिंह ने देश की रक्षा के खातिर सर्वाच्च बिलदान दिया है. शहीद की मौत से इलाके में मातम छा गया है. गुरुवार देर शाम शहीद का पार्थिव शरीर घर पहुंचने की संभावना है.

जानकारी के अनुसार, बिलासपुर जिले के स्वारघाट उपमंडल के गांव तरसूह के 22 साल के करनैल सिंह पुत्र शेर सिंह कश्मीर में शहीद हो गए हैं. शुरुआती जानकारी में पता चला है कि स्नो एवलांच की चपेट में आने से करनैल सिंह शहीद हो गए.उनके परिवार में माता-पिता के अलावा दो बहनें हैं एक बहन की शादी हो चुकी है. करनैल अपने माता-पिता के इकलौते बेटे थे. माता पिता और बहनों का रो-रोकर बुरा हाल है। वे किसी से भी बात करने की हालत में भी नहीं है जब से पता चला है किसी ने पानी का घूंट तक नहीं पीया है।श्री नैना देवी से कांग्रेस विधायक राम लाल ठाकुर ने 22 साल के नौजवान के शहीद होने पर शोक जताया है.

Total Page Visits: 577 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *