By | December 12, 2020

क्या आप जानते है नागा साधु,साध्वी आखिर कपड़े क्यों नहीं पहनते ?

आपने नागा साधु को देखा होगा तो वह कभी कपड़े पहने नहीं देखा होगा। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ये साधु कपड़े क्यों नहीं पहनते हैं। नागा साधु हिंदू धर्मावलंबी साधु हैं, जो कि नग्न रहने और युद्ध कला में माहिर होने के लिए फेमस होते हैं। जिनकी परंपरा गुरु शंकराचार्य द्वारा की गई थी जो की आज भी चल रही है। नागा साधुओं का कपड़ों को लेकर मानना है कि, कपड़े वो लोग पहनते हैं जिन लोगों को अपनी सुरक्षा करनी है, हम बाबा है। इसलिए हमें सुरक्षा का कोई महत्व नहीं है। नागा साधु का शरीर समय के साथ साथ ऐसा हो जाता है कि इन को किसी मौसम में कोई फर्क नहीं पड़ता है. यह लोग हमेशा ध्यान में लीन रहते हैं। नागा साधुओं को दुनिया से कोई मतलब नहीं होता, नहीं इनका परिवार होता है, इनका परिवार नागा समुदाय के लोग ही होते हैं। नागा पंथ में शामिल होने के लिए जरूरी जानकारी हासिल करने में 6 साल लगते हैं। इस दौरान नए सदस्य एक लंगोट के अलावा कुछ नहीं पहनते। कुम्भ मेले में अंतिम प्रण लेने के बाद लंगोट भी त्याग देते हैं और जीवन भर यूं ही रहते हैं।


ये है नागा साधु,साध्वी की रहस्यमय दुनिया, हैरान कर देगी इनसे जुड़ी 10 बातें

1. सन्यासिन बनने से पहले महिला को 6 से 12 साल तक कठिन ब्रह्मचर्य का पालन करना होता है. इसके बाद गुरु यदि इस बात से संतुष्ट हो जाते हैंं कि महिला ब्रह्मचर्य का पालन कर सकती है तो उसे दीक्षा देते हैंं.

2. नागा साधु,महिला साध्वी  सन्यासिन बनाने से पहले अखाड़े के साधु-संत महिला के घर परिवार और पिछले जीवन की जांच-पड़ताल करते हैंं.

3. नागा साधु, महिला साध्वी को भी नागा सन्यासिन बनने से पहले स्वंयंं का पिंडदान और तर्पण करना पड़ता है.

4. जिस अखाड़े से महिला साध्वी सन्यास की दीक्षा लेना चाहती है, उसके आचार्य महामंडलेश्वर ही उसे दीक्षा देते हैंं.

5. नागा साधु, महिला साध्वी सन्यासिन बनाने से पहले उसका मुंडन किया जाता है और नदी में स्नान करवाते हैंं.
6. महिला नागा सन्यासिन पूरा दिन भगवान का जप करती है. सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठना होता है. इसके बाद नित्य कर्मो के बाद शिवजी का जप करती हैंं, दोपहर में भोजन करती हैंं और फिर से शिवजी का जप करती हैंं. शाम को दत्तात्रेय भगवान की पूजा करती हैंं और इसके बाद शयन.

7. सिंहस्थ और कुम्भ में नागा साधुओं के साथ ही महिला सन्यासिन भी शाही स्नान करती हैंं. अखाड़े में सन्यासिन को भी पूरा सम्मान दिया जाता है.

8. जब महिला नागा सन्यासिन बन जाती हैंं तो अखाड़े के सभी साधु-संत इन्हे माता कहकर सम्बोधित करते हैंं.9. सन्यासिन बनने से पहले महिला को ये साबित करना होता है कि उसका परिवार और समाज से कोई मोह नहीं है. वह सिर्फ भगवान की भक्ति करना चाहती है. इस बात की संतुष्टि होने के बाद ही दीक्षा देते हैंं.

10. पुरुष नागा साधु और महिला नागा साधु में फर्क केवल इतना ही है की महिला नागा साधु को एक पीला वस्त्र लपेटकर रखना पड़ता है और यही वस्त्र पहनकर स्नान करना पड़ता है. नग्न स्नान की अनुमति नहीं है, यहां तक की कुम्भ मेले में भी नही

Total Page Visits: 1147 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *