By | September 22, 2020

पहली बार जंगी जहाज पर दो महिला ऑफिसर्स की तैनाती जाने कौन हैं सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्‍यागी और रीति सिंह

इंडियन नेवी ने लैंगिक असमानता को दूर करने के मकसद एक बड़ा कदम उठाया है। नेवी दो महिला पायलट सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्‍यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह को पहली बार किसी वॉरशिप पर तैनात करने वाली है। हालांकि नेवी में बहुत से लेडी ऑफिसर्स को रैंक के मुताबिक तैनाती मिली हुई है लेकिन यह पहला मौका होगा जब किसी वॉरशिप पर इन लेडी ऑफिसर्स को तैनात किया जाएगा।भारतीय नौसेना के इस ऐतिहासिक फैसले से फ्रंटलाइन जंगी जहाजों पर महिलाओं की तैनाती का रास्‍ता साफ हो गया है। दोनों महिला अधिकारी भारत की पहली महिला एयरबोर्न टैक्‍टीशियंस होंगी जो जंगी जहाजों के डेक से काम करेंगी। इसके तहत, वॉरशिप पर एयरक्राफ्ट को टेकऑफ और लैंड कराया जाता है। इसके पहले महिला अफसरों को फिक्स्ड विंग एयरकॉफ्ट तक सीमित रखा गया था। नेवी के प्रवक्ता विवेक मधवाल ने बताया है कि ये दोनों अधिकारी इतिहास में पहली बार आधिकारिक तौर पर किसी भी युद्ध की स्थिति में वॉरशिप में शामिल होने वाली महिलाएं होंगी।

नौसेना ने इस ऐतिहासिक कदम
नौसेना ने इस ऐतिहासिक कदम के लिए 17 ऑफिसर्स में से इन दो को चुना है। नेवी में निश्चित तौर पर यह एक बड़ा बदलाव है। दो युवा लेडी ऑफिसर्स को इस समय कई सेंसर्स से लैस मल्‍टी रोल हेलीकॉप्‍टर्स को ऑपरेट करने की ट्रेनिंग दी जा रही है। ये हेलीकॉप्‍टर सोनार कॉनसोल्‍स और इंटेलीजेंस सर्विलांस से लैंस हैं। माना जा रहा है कि लेडी ऑफिसर्स नेवी के नए MH-60R हेलीकॉप्‍टर को उड़ा सकती हैं। इन लीकॉप्‍टर्स को दुश्‍मन के जहाज और पनडुब्बियों का पता लगाने में वर्ल्‍ड क्‍लास माना जाता है। ये दुश्‍मन के ऐसे जहाज और पनडुब्बियों का पता लगा सकता है जो मिसाइल और टारपीडो के प्रयोग से एक प्रकार के युद्ध में नौसेना को उलझा सकते हैं।
एयरफोर्स ने भी महिलाओं को दी अहम जिम्‍मेदारी

अंबाला में राफेल की स्‍क्‍वाड्रन के साथ महिला फाइटर पायलट, क्‍या मिलेगा जेट  उड़ाने का मौका! | Indian Air Force's Rafale squadron in Ambala to get first  woman fighter pilot - Hindi ...
नेवी के इस फैसले की खबर भी उसी दिन आई, जब यह पता चला कि वायुसेना ने भी बड़ा कदम उठाया है। राफेल लड़ाकू विमानों को उड़ाने के लिए भी एक महिला पायलट को चुना गया है। वह पायलट इस वक्‍त कन्‍वर्जन ट्रेनिंग से गुजर रही हैं। वह जल्‍द 17 स्‍क्‍वाड्रन का हिस्‍सा बन जाएंगी। करगिल युद्ध में पहली बार एयरफोर्स ने महिला पायलट्स को ऐक्टिव ऑपरेशंस का हिस्‍सा बनाया था। साल 2016 में सरकार ने महिलाओं को फाइटर फ्लाइंग की अनुमति भी दे दी थी। तब से अबतक 10 महिला पायलट्स कमिशन की गई हैं।

Total Page Visits: 465 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *