आज रात चांद पर उतरेगा चंद्रयान-2  बेहद अहम होंगी आखिरी 15 मिनट, देशभर में शुरू हुआ दुआओं की सिलसिला

आज रात चांद पर उतरेगा चंद्रयान-2  बेहद अहम होंगी आखिरी 15 मिनट, देशभर में शुरू हुआ दुआओं की सिलसिला

चांद पर लैंडिंग के आखिरी 15 मिनट में चंद्रयान-2 का सबसे बड़ा इम्तिहान होने वाला. लैंडर ‘विक्रम’  की सॉफ्ट लैंडिंग के बाद ही इस चंद्र मिशन को कामयाब माना जाएगा. बैंगलुरु: करीब डेढ़ महीने पहले चांद के सफर पर निकला चंद्रयान-2 आज इतिहास रचने वाला है. आज रात चंद्रयान-2 का लैंडर ‘विक्रम’  चांद की सतह पर उतरेगा. एक ऐसा पल जिस पर दुनिया भर की निगाहें टिकी रहेंगी. लेकिन लैंडिंग के आखिरी लम्हों के दौरान सवा  अरब भारतीयों की धड़कनें थम सी जाएंगी. दरअसल, लैंडिग के आखिरी 15 मिनट में चंद्रयान-2 का सबसे बड़ा इम्तिहान होने वाला है. लैंडर ‘विक्रम’ की सॉफ्ट लैंडिंग के बाद ही इस मिशन को कामयाब माना जाएगा .इस ऐतिहासिक अंतरिक्ष छलांग की सफलता के लिए  प्रार्थना करने के साथ ही शुक्रवार-शनिवार की दरम्यानी रात होने वाली ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ की घड़ी का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। सिर्फ
देश ही नहीं, बल्कि दुनिया के अन्य राष्ट्रों की निगाहें भी इस मिशन पर टिकी हैं।

1. चंद्रयान-2 की चंद्रमा पर लैंडिंग की गवाह बनेगी लखनऊ की राशि                                                                                                                                                                                                                                                                               चंद्रयान दो की चंद्रमा की सतह पर लैंडिंग को पीएम नरेन्द्र मोदी के साथ देखने के लिए डीपीएस जानकीपुरम की छात्रा राशि वर्मा शुक्रवार सुबह बेंगलुरु के लिए रवाना हो गईं। राशि के साथ उसके पिता राजकुमार वर्मा भी जा रहे हैं। राशि छह सितंबर की देर रात डेढ़ से ढाई बजे के बीच चंद्रयान दो के चंद्रमा की सतह पर उतरने की ऐतिहासिक घटना की गवाह बनेगी।

2. नोएडा का छात्र PM मोदी के साथ चंद्रयान 2 की चांद पर लैंडिंग का बनेगा गवाह                                                                                                                                                                                                                                          ऐतिहासिक चंद्रयान 2 के चंद्रमा पर उतरने का गवाह बनने के लिए इसरो द्वारा नोएडा के एक कक्षा 10 के छात्र का चयन किया गया है। 7 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में बेंगलुरु स्थित इसरो मुख्यालय में वह भी मौजूद रहेगा।

3. चंद्रयान-2 : विक्रम लैंडर चंद्रमा से सिर्फ 35 किलोमीटर दूर, 7 सितंबर को सतह पर उतरेगा                                                                                                                                                                                                                             अनगिनत सपनों को लेकर चंद्रमा पर गए ‘चंद्रयान-2’ के पृथ्वी के प्राकृतिक उपग्रह पर सफलतापूर्वक उतरने के साथ ही रूस, अमेरिका और चीन के बाद भारत वहां ‘सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला दुनिया का चौथा और चंद्रमा के अनदेखे दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरने वाला दुनिया का पहला देश बन जाएगा।

4. केवी के 16 विद्यार्थी देखेंगे मोदी संग चंद्रयान-2 की लैंडिंग                                                                                                                                                                                                                                                                                                 आगामी सात सितंबर को जब चंद्रयान-2 चंद्रमा पर कदम रखेगा तब इस पल को देखने के लिए केंद्रीय विद्यालय के 16 विद्यार्थी भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ इसरों में मौजूद रहेंगे।

5. चंद्रयान-2 मिशन के लिए बड़ी कामयाबी, आर्बिटर से अलग हुआ लैंडर विक्रम                                                                                                                                                                                                                                                         चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) रविवार शाम 6:21 बजे चांद की पांचवीं कक्षा में पहुंच गया। चांद से यान की दूरी अब महज 109 से 120 किलोमीटर रह गई है। इसरो ने रविवार को कहा कि उसने चंद्रयान-2 को चंद्रमा की पांचवीं एवं अंतिम कक्षा में सफलतापूर्वक प्रवेश कराया।

6. चंद्रयान-2 से अलगाव के बाद अब चांद की ओर चला विक्रम                                                                                                                                                                                                                                                                                          इसरो ने चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर से विक्रम लैंडर को सफलतापूर्वक अलग कर दिया जो सात सितंबर को चांद की सतह पर उतरेगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने कहा कि यह प्रक्रिया अपराह्न 12 बजकर 45 मिनट पर शुरू हुई और एक बजकर 15 मिनट पर ऑर्बिटर से विक्रम अलग हो गया। इसरो के एक अधिकारी ने कहा कि जी हां, यह सफलतापूर्वक अलग हो गया।

645total visits,14visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *