By | May 15, 2021

फिर से हुई इंसानियत शर्मसार बेटी के शव को कंधे पर उठा पैदल ही ले जा रहा पिता, सैंकड़ों लोग देखते रहे तमाशा किसी ने नहीं की मदद….

कोरोना काल में पूरे देश से दिल दहला देने वाली तस्वीरें सामने आईं। अस्पतालों से लेकर श्मशान और कब्रिस्तान तक लाशें ही लाशें बिछी नजर आईं। कोरोना से मौत ने लीला तो कोई अपना हाथ लगाने नहीं आया। कई लोग अपनों की लाशें लावारिश छोड़ गए तो कोई अकेले ही लाश उठाकर अपनों का क्रियाकर्म करते नजर आए। ऐसी ही एक तस्वीर पंजाब के जालंधर से सामने आई है।

the father carrying the dead body of the daughter on his shoulder

रामनगर में एक पिता अपनी 11 साल की बच्ची का शव कंधे पर उठाकर उसका संस्कार करने जा रहा है। मिली जानकारी के अनुसार उड़ीसा का रहने वाला है ये परिवार फिलहाल जालंधर में रह रहा था। दिलीप कुमार नाम का ये शख्स अपनी दो बेटियां और एक बेटे के साथ फिलहाल जालंधर के रामनगर में रह रहा है । कुछ समय पहले उसकी एक बेटी जिसका नाम सोनू था अचानक बीमार हो गई जिसके बाद उसे वह अमृतसर के एक अस्पताल में ले गया जहां इलाज के दौरान उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई । लेकिन इलाज दौरान लड़की की मौत हो गई। जिसके बाद पिता उसे अपने घर लेकर आया और जब उसको अंतिम संस्कार करने के लिए तैयारियां शुरू हुई तो इलाके के लोगों ने अंतिम संस्कार में बेटी को कंधा देने से मना कर दिया।इसके बाद मजबूरन दिलीप कुमार को अपनी बेटी को अपने कंधे पर लाद कर खुद ही श्मशान घाट अंतिम संस्कार के लिए ले जाना पड़ा। ये दयनीय तस्वीर सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हो रही है। इस संबंधी एक वीडियो भी शायर किया जा रहा है।उसके पीछे एक बच्चा भी चल रहा है जो शव को बार बार उप्पेर की और कर रहा है ताकि वो नीचे लटके न। बुजुर्ग की मदद के लिए कोई सामने नहीं आया जबकि सैंकड़ों लोग दूर से ही तमाशा देख रहे थे। इस तस्वीर के सामने आने के बाद जालंधर में प्रशासन और एम्बुलेंस के प्रबंधों के तमाम दावों की पोल खुल गई है।…

Total Page Visits: 1170 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *