By | February 10, 2020

गरीबी और आंखों की लाइलाज बीमारी को मात देकर बना PSC टॉपर नाई का बेटा

Chhattisgarh हितेश श्रीवास, जिसने छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग PSC की परीक्षा में विकलांग कोटे से टॉप किया है. हितेश की आंखों में शुरू से ही लाइलाज बीमारी है.हितेश श्रीवास को सिर्फ 12 सेंटीमीटर ही बिना चश्मे के दिखाई देता है. ऐसे में भी लगातार पढ़ाई कर पहले ही प्रयास में हितेश ने पीएससी की मेरिट सूची में जगह बनाई है. कोटे से मिले इस रैंक से हितेश को सहकारी बैंक में असिस्टेंट डायरेक्टर, रजिस्ट्रार का पद मिला उनके पिता पेशे से नाई हैं, जो कि गांव के घरों में जा जाकर बाल और सेविंग बनाने का काम करते हैं.

छोटे भाई ने ऐसे की हितेश की पढ़ाई में मददबिलासपुर में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले एक निजी कोचिंंग संस्थान की फी काफी ज्यादा थी. लेकिन हितेश के प्रतिभा को देखते हुए कोचिंग संस्था ने उन्हें फ्री में कुछ छूट दे दी. फिर भी हितेश को कॉपी, किताब, नोट्स और फी के लिए रकम की आवश्यकता थी. हितेश ने बताया कि उनका छोटा भाई इस बीच दूसरे राज्य से वापस अपने गांव आ गया था और गोलगप्पे और कुल्फी बेचने का काम शुरू किया. इसी काम से मिलने वाले पैसों को छोटा भाई हितेश की पढ़ाई के लिए भेजता था.

Total Page Visits: 536 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *