भारत को दशहरे के दिन राफेल मिलेगा; फ्रांस में राजनाथ खुद मौजूद रहेंगे, शस्त्र पूजा भी करेंगे

भारत को दशहरे के दिन राफेल मिलेगा; फ्रांस में राजनाथ खुद मौजूद रहेंगे, शस्त्र पूजा भी करेंगे

गृह मंत्री राजनाथ सिंह विदेश में भारतीय मूल्यों को बरकरार रखते हुए पेरिस में शस्त्र पूजन (हथियारों की पूजा) करेंगे। दरअसल, मंत्री दशहरे के मौके पर पेरिस में रहेंगे क्योंकि वह आठ अक्तूबर को वहां पहला राफेल विमान प्राप्त करने के लिए जाने वाले हैं। इसी कारण राजनाथ पेरिस में ही यह पूजा करेंगे।

2016 में डील हुई थी                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                 राफेल लड़ाकू विमान डील भारत और फ्रांस की सरकार के बीच सितंबर 2016 में हुई। इसमें वायुसेना को 36 अत्याधुनिक लड़ाकू विमान मिलेंगे। यह सौदा 7.8 करोड़ यूरो (करीब 58,000 करोड़ रुपए) का है। कांग्रेस का दावा है कि यूपीए सरकार के दौरान एक राफेल फाइटर जेट की कीमत 600 करोड़ रुपए तय की गई थी। मोदी सरकार के दौरान एक राफेल करीब 1600 करोड़ रुपए का पड़ेगा।भारत अपने पूर्वी और पश्चिमी मोर्चों पर वायुसेना की क्षमता बढ़ाने के लिए राफेल ले रहा है। वायुसेना राफेल की एक-एक स्क्वॉड्रन हरियाणा के अंबाला और पश्चिम बंगाल के हशीमारा एयरबेस पर तैनात करेगी।

वायुसेना को लंबे समय से था इंतजार
देश की वायु सेना को लंबे समय से राफेल विमान का इंतजार था. क्योंकि भारत के पास आने वाला यह सबसे आधुनिक और अधिक मारक क्षमता वाला विमान होगा. इन विमानों को भारत लाने में इसलिए देरी हो रही है क्योंकि राफेल विमानों के परीक्षण और ट्रेनिंग के लिए भारतीय पायलट इन्हें फ्रांस में कम-से-कम 1,500 घंटे उड़ाएंगे. उड़ान के दौरान राफेल विमान SCALP मिसाइल से लैस होंगे, जो 300 किलोमीटर की रेंज में जमीन पर वार कर सकती है. ट्रेनिंग और परीक्षण पूरा होने के बाद राफेल को वायुसेना के अंबाला बेस में लाया जाएगा.

541total visits,2visits today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *